Raksha Bandhan 2023 | रक्षाबंधन कब, क्यों मनाया जाता है

Raksha Bandhan 2023 : रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है रक्षाबंधन का नाम सुनकर बहुत ही बहनों के चेहरों की खुशी झलक जाती है क्योंकि यह भाई बहन का रिश्ता ही कुछ ऐसा ही होता है जिसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता वह इस रिश्ते को इतना पवित्र माना गया है की पूरी दुनिया भर में सम्मान किया जाता है. मुझे लगता है ऐसा कोई शायद ही व्यक्ति होगा जिसे मालूम नहीं होगा कि रक्षाबंधन का अर्थ क्या है और रक्षाबंधन कैसे मनाया जाता है?

Raksha Bandhan 2023

यह Raksha Bandhan का त्यौहार हमारे भारत देश में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है रक्षाबंधन एक हिंदू त्योहार है नेपाल जैसे देशों में भी भाई बहन के प्यार का प्रतीक मानकर हर्षोल्लास से इस त्यौहार को मनाया जाता है.

रक्षाबंधन का त्यौहार कब मनाया जाता है? | Raksha Bandhan 2023

रक्षाबंधन के त्योहार हमेशा श्रवण महीने के पूर्णिमा के दिन ही मनाया जाता है जो कि हर साल अगस्त के महीने में ही आता है. दोस्तों इस रक्षाबंधन के त्यौहार को हर कोई मनाता है लेकिन इसके बारे में पूरी जानकारी हर किसी को पता नहीं होती है इसलिए आज हमने सोचा है कि क्यों ने आपको भी Raksha Bandhan के बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार पूर्वक प्रदान की जाए इससे कि आप लोगों को हमारे भारत देश के इस महान त्योहार के विषय पर मालूम हो सके कि रक्षाबंधन कैसे मनाया जाता है और क्यों मनाया जाता है.

रक्षाबंधन क्या है | What Is Raksha Bandhan

रक्षाबंधन संस्कृत के अनुसार दो शब्दों से मिलकर बना है रक्षा और बंधन इसका मतलब यह होता है कि एक ऐसा अटूट रिश्ता जो कि हमेशा सुरक्षा प्रदान करता हूं या फिर आप कह सकते हैं रक्षा का मतलब रक्षा प्रदान करना होता है और बंधन का मतलब मजबूत जो कि एक रस्सी की गांठ के द्वारा हमेशा मजबूत और सुरक्षा प्रदान करना.

रक्षाबंधन जो कि दोनों ही शब्द से मिलकर भाई बहन के प्यार का प्रतीक होता है जो कि केवल खून के रिश्ते को नहीं बल्कि एक पवित्र रिश्ते को भी दर्शाता है और रक्षाबंधन का त्यौहार उन भाइयों को याद दिलाता है कि उनकी बहनों की हमेशा रक्षा करनी चाहिए और उन्हें हमेशा खुशी प्रदान करें.

रक्षाबंधन क्यों मनाते हैं?

दोस्तों यह सवाल हर किसी के मन में जरूर आता है कि रक्षाबंधन क्यों मनाते हैं (Raksha Bandhan ) तो इसका जवाब यही है कि यह त्योहार इसलिए मनाया जाता है कि  एक भाई अपनी बहन के प्रति कितना कर्तव्य निष्ठा से प्यार और रक्षा करता है. यह त्योहार केवल अपनी सगी भाई बहन के लिए ही नहीं बल्कि कोई भी स्त्री और पुरुष जो कि इस त्यौहार को मर्यादा से समझते हैं वह इसका पालन कर सकते हैं.

रक्षाबंधन के त्यौहार पर एक बहन अपनी बहन की कलाई में राखी बांधती है और भगवान से प्रार्थना करती है कि उसका भाई हमेशा खुश और स्वस्थ रहें. वहीं दूसरी तरफ उसका भाई अपनी बहन को उपहार (Gift) देता है और यही प्रार्थना करता है कि कोई भी विपति आ जाए तो भी अपनी बहन की रक्षा के लिए हमेशा आगे खड़ा रहेगा.

और साथ में भगवान से जी यही मनोकामना करता है कि उसकी बहन हमेशा लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य के साथ हमेशा खुश रहे.  इस Raksha Bandhan के त्यौहार की पालना कोई भी कर सकता है चाहे वह सगे भाई बहन हो या न हो दोस्तों आपको यह समझ में आ ही गया होगा कि रक्षा बंधन कैसे मनाया जाता है और क्यों मनाया जाता है. 

रक्षा बंधन कैसे मनाया जाता है?

मेरे प्रिय भाइयों और बहनों रक्षाबंधन का त्योहार बनाने की भी एक विधि होती है और उसका पालन करना बहुत ही जब जरूरी होता है तो आइए चलिए इसे विस्तार पूर्वक जानते हैं.

  •  रक्षाबंधन के दिन सुबह सूर्य निकलने से पहले उठ कर स्नान कर लेना है  जिससे कि मन और शरीर दोनों ही पवित्र हो जाते हैं 
  • फिर सबसे पहले भगवान की पूजा की जाती है
  • उसके बाद बहन के द्वारा राखी की थाली को सजाया जाता है जिसमें पीतल की थाली में दीपक कुमकुम चावल मिठाई चंदन, दीपक इत्यादि रखी जाती है
  •  फिर अपने भाई को बुलाया जाता है और नीचे फर्श पर एक चटाई बिछाकर बिठाया जाता है
  • फिर बहन थाली में दिए को जलाकर भाई के माथे पर तिलक और चंदन लगाकर आरती करती हैं
  • उसके बाद भाई के कलाई में राखी बांधती है और फिर उसे मिठाई भी खिलाती है.
  • अगर भाई बहन से बड़ा हुआ तो उसके चरण स्पर्श करती हैं अगर भाई छोटा हुआ तो वह चरण स्पर्श करता है

उसके बाद भाई अपनी बहन को उपहार प्रदान करता है जैसे की बहन बहुत ही खुशी खुशी ले लेती है इसके पश्चात राखी की रसम पूरा होते ही दोनों भाई बहन साथ में भोजन भी करते हैं.

2023 में रक्षाबंधन कब है?

इस वर्ष रक्षाबंधन का त्योहार श्रवण महीने के पूर्णिमा को यानी 11 अगस्त 2022 को गुरुवार  के दिन है.

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त क्या है?

इस वर्ष रक्षाबंधन का त्यौहार स्वतंत्रता दिवस के दिन से 4 दिन पहले 11 अगस्त  वह है को है और इस दिन गुरुवार का दिन है और रक्षाबंधन पर राखी बांधने का शुभ मुहूर्त सुबह 5:49  से शाम  6:01 बजे तक बहने अपने भाई को राखी बांध सकते हैं.

Raksha Bandhan Quotes and Wishes

चन्दन की डोरी, फूलों का हार,

आया सावन का महीना और राखी का त्यौहार,

जिसमें झलकता है भाई–बहन का प्यार

बहन दूर भी हो तोभी कोई गम नहीं होता,

उसका प्यार किसी दुआ से कम नहीं होता,

अक्सर रिश्ते दूरियों से फीके पड़ जाते हैं,

पर बहन-भाई का प्यार कभी कम नहीं होता.

भाई तुम जियो हज़ारों साल..मिले success तुम्हे हर बार,

खुशियों की हो तुम पे बौछार ..यही दुआ करते हैं हम बार बार

घर में जब आपके साथ कोई नहीं होता हैं,

तब भी भाई आपके साथ खड़ा होता हैं।

साथ पले और साथ बड़े हुए,

खूब मिला बचपन में प्यार,

भाई-बहन का प्यार बढ़ाने,

आया राखी का त्यौहार.

FAQ :

राखी क्यों बांधी जाती है

रक्षाबंधन के दिन बहने अपने भाई की रक्षा और स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए राखी बांधी जाती है और यह हमारे हिंदू संस्कृति में किसी भी बुराई से लड़ने के लिए सुरक्षा से बांधी जाती हैं

रक्षाबंधन कौन सी तारीख को आ रहा है

रक्षाबंधन 11 अगस्त 2022 को गुरुवार के दिन है

राखी कौन से हाथ में बांधी जाती है?

राखी हमेशा दाहिने हाथ की कलाई पर ही बांधनी चाहिए

आज आपने क्या सिखा ?

दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आज आपको इस लेख के अंदर रक्षाबंधन क्या है और रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है , रक्षाबंधन कब है, रक्षाबंधन कैसे मनाया जाता है जैसे सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे आशा करता हूं कि इन  सवालों के बारे में आपको किसी अन्य वेबसाइट पर अब नहीं जाना पड़ेगा. 

दोस्तों अगर इस लेख रक्षाबंधन का त्योहार के बारे में कोई अधूरी जानकारी छूट गई है  या आपके मन में कोई डाउट है तो बेझिझक होकर आप हमें नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के अंदर Coment कर सकते हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published.